Saturday, June 28, 2014

सच-सच बतलाना




शशि पाधा
1
भरमाए रहते हो
बरसो तो जानें
बस छाए रहते हो ।
2
कुछ पल को तड़पोगी
गर हम बरस गए
चुनरी में भर लोगी ।
3
कुछ समझ नहीं आता
सच-सच बतलाना -
बिजुरी से क्या नाता ?
4
मुझको बिजुरी भाती
नभ की गलियों में
हम बचपन के साथी ।
5
थोड़े से काले हो
धूप बताती है
कुछ भोले- भाले हो ।
6
हम तो बंजारे हैं
इत-उत फिरते हैं
औरों से न्यारे हैं ।
7
क्यों रोज़ सताते हो
इक पल दिख जाते
दूजे छिप जाते हो ।
8
यह खेल पुराना है
आँख मिचौनी को
सबने पहचाना है ।
9
यह बात  तभी जानूँ
मन के आँचल में
छिप पाओ तो मानूँ ।
10
इस पल को तरस गए
आँखें मींचो तो
लो हम तो बरस गए ।
11
आँखों में भर लेंगे
तुझको मोती- सा
पलकों पे धर लेंगे ।
12
बूँदें जो झरती हैं
आँखों की झीलें
हमसे ही भरती हैं ।
13
सावन को जाने दो
तुम तो रुक जाना
त्योहार मनाने दो ।
14
लो कैसे जाएँगे
डोरी प्रीत- भरी
हम तोड़ न पाएँगे।
-0-

8 comments:

ज्योति-कलश said...

वाह वाह ...एक से बढ़ कर एक माहिया हैं दीदी ...बेहद सरस !
हार्दिक बधाईयाँ !!

Unknown said...

शशि जी सभी हाइकु बहुत अच्छे लगे परन्तु हाइकु १२ बूँदें जो झरती हैं....गहरे भाव लिए हुए है |बधाई |

Anita Lalit (अनिता ललित ) said...

बहुत सुन्दर ! बरसात की बूँदों से सजे सभी माहिया दिल लुभा गए
हार्दिक बधाई शशि दीदी !

~सादर
अनिता ललित

Dr.Anita Kapoor said...

वाह ...एक से बढ़ कर एक माहिया हैं ...
हार्दिक बधाई....

Shashi Padha said...

आप सब का हार्दिक आभार |

सस्नेह,

शशि पाधा

Shashi Padha said...

आप सव का हार्दिक आभार

सस्नेह,
शशि पाधा

Unknown said...

शशि जी, मुझे खेद है की मैंने ग़लती से माहिया को हाइकु लिख दिया है |कृपया क्षमा करें |

प्रियंका गुप्ता said...

क्या बात है...इन माहिया में जैसे जुगलबंदी का भी आनंद आ गया...| हार्दिक बधाई...|