Tuesday, May 23, 2017

762

डॉ पूर्णिमा राय
1
हम तेरे कायल हैं
साजन आ जाना
घिर आ बादल हैं
2
बादल घिर आ हैं
यादों की गठरी
भर-भर कर ला हैं
3
यह दिल है दीवाना
राह तकें नैना
मौसम भी मस्ताना
4
तुम दूर करो गम को
हँसना जीवन है
त लिख देना हमको
5
खिड़की से झाँक रहा
निर्मोही चंदा
बरबस ही ताक रहा।।
6
बूँदें बन बारिश की
 रोता है अम्बर

बू आ साजिश की।।

3 comments:

Kashmiri Lal said...

sunder

ज्योति-कलश said...

सुंदर प्रस्तुति 👌👍

sunita kamboj said...

वाह बहुत सुंदर माहिया पूर्णिमा जी