Tuesday, November 1, 2016

740



डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर
1
कृष्ण मुरारी
हरो तम जग का
ब्रज के जैसा
पूजन गोवर्धन
मंगल कामनाएँ!!
2
निहारे राह
पदचाप सुनते
तेरे आने की
हँगाई की मार
ओलावृष्टि की भाँति!!
3
मानव धर्म
सजी मानवीयता 
तुम्हारे संग
हृदय कपाट पे
निश्चल प्रेम कृष्णा!!
. -0-

11 comments:

Pushpa Mehra said...


गोवर्धन पूजा के अवसर पर भगवान श्री कृष्ण से संसार को सारे उत्पीड़नों से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना आपके मानवीय दृष्टिकोण को दर्शा रही है सुंदर भाव, पूर्णिमा जी बधाई |

पुष्पा मेहरा

jyotsana pardeep said...

सुन्दर सृजन पूर्णिमा जी !
भगवान कृष्ण के प्रति पावन भाव को नमन !!!
बधाई आपको !!!

Dr Purnima Rai said...

आभार आ. पुष्पा जी

Dr Purnima Rai said...

आभार ज्योत्सना जी

Dr Purnima Rai said...

आभार ज्योत्सना जी

Krishna said...

भावपूर्ण सृजन पूर्णिमा जी...बधाई!

sunita kamboj said...

पूर्णिमा जी बहुत सुंदर सृजन ..हार्दिक बधाई

Kashmiri Lal said...

बढिया सारे

ज्योति-कलश said...

सुन्दर सृजन ..बधाई पूर्णिमा जी !

jyotsana pardeep said...

भावपूर्ण सृजन पूर्णिमा जी...हार्दिक बधाई!!

प्रियंका गुप्ता said...

बहुत सुन्दर...मेरी बधाई...|