Tuesday, May 12, 2015

पीड़ा पेड़ की

ज्योत्स्ना प्रदीप

       पेड़  हैरान !
      मेरी मधु-मिठास
             
  
       मुझसे छीनी !
       बनाये आशियाने।
       पूजा, बंदगी
       अधूरी मेरे बिन।
       ये वाद्य -यंत्र
       गीत ,ग़ज़ल ,मन्त्र ,
       अपना  ग़म
       कम करते रहे ,
       मेरे नयन
       नम करते रहे।
       लूटते मुझे
       ‘गज़नवी’ - सा बन
       तेरा दुःख तो
       मेरी जड़ी -बूटियाँ
       हरती  रही-
       मेरे जिस्म का
        एक-एक रेशा भी 
       
भस्म होकर
  तेरी  ठंडी  देह के
काम आया है
 अस्थियों से  लिपटी
  मेरी राख है  
       अरे ओ पथरीले !
       तूने तो बस
       संताप ही बाँटे हैं
       सुना है तूने ,
      
फिर से पेड़ काटे हैं
अब तो चेत !
समाप्त हो जाएगा
किसी भी दिन
जीव -जंतु समेत ।
शायद तभी ,
क्रुद्ध ,प्रकृति- छटा
कहीं सागर
       निज रेखा से हटा
       कहीं, भू - हिय  फटा ।

11 comments:

Dr.Bhawna said...

फिर से पेड़ काटे हैं
अब तो चेत !
समाप्त हो जाएगा
किसी भी दिन
जीव -जंतु समेत ।

KASH YE LOG SAMJH PAYEN TO BAT HI BADAL JAYE,YANHA ACHHA LGATA HAI PED LAGAYE JAYDA JATE HAIN GIRAYE NAHI JATE PAR KISI TUFAN MEN GIR JATE HAIN TO EAK KE BADLE DO LAGATE HAIN...AAPNE BAHUT ACHHA LIKHA BADHAI...

RAMESHWAR KAMBOJ HIMANSHU said...

ज्योत्स्ना प्रदीप जी आपने पेड़ की पीड़ा को बहुत गहनता से उभारा है। हम पर्यावरण की जो उपेक्षा जकर रहे हैं उसका दण्ड लगातार प्रकृति दे रही है। यही हालत रही तो विनाश लीला दूर नहीं। विकास के नाम पर वृक्षों का कत्लेआम सबको दण्डित करेगा।

Amit Agarwal said...

पेड़ की पीड़ा का सजीव, यथार्थपूर्ण और मार्मिक चित्रण!
ज्योत्स्ना जी अभिनन्दन!

jyotsana pardeep said...

hum bhi yehi prarthna karte hain ke yeh dhara , vruksh rupi aabhosshan pehan le...pedon ki peeda samajhte hue...shuruwaat hum sabhi ko karni hogi...hum sabhi ko zyaada se zyaada ped lagane chahiye ...aap sabhi ne mere inn bhaavon ko saraha,maano lekhni ko saarthak kar diya..himanshu ji,bhaavna ji,amit ji,aap jaise poojniye gunijano ke aage natmatsak hoon...aabhar aap sab ka

Pushpa Mehra said...

pedon ke dard ko jyotsna ji bahutsunder dhang se vyakt kiya hai. pedon ke vinash ka karan hain hamare vikas ke badhate charan .sabhyata ka ujala aur shanoshaukat ki lalasa mein saje sajaye ham muk ki vyatha samajhana to door usase sambandhit prakriti va samast jan-jeevan par padane vale bhyavah parinamon ko bhool jate hain . jinaki pristhbhumi
shukh ke panne par ham taiyar karate ja rahe hain.yahi to vicharneey hai. sunder choka soton ko jagaye yahi kamna hai badhai.
pushpamehra. b

Kashmiri lal said...

There is deep pain of nature created by the
Man

Anita Lalit (अनिता ललित ) said...

पेड़ की पीड़ा का मार्मिक एवं सजीव चित्रण किया आपने...ज्योत्स्ना जी !
भावपूर्ण, सामयिक, सार्थक प्रस्तुति!

~सादर
अनिता ललित

ज्योति-कलश said...

paryaavarn ke prati apni peedaa ,chinta ko bahut sashakt roop se kahaa aapane !
sajag kalan ko naman !

jyotsana pardeep said...

pushpa ji ,kashmiri lal ji ,anita ji ,jyotsna ji ..sadar naman hai aapke pavan vicharon ko .abhaar!

Shivika Sharma said...

Bahut hi khoobsurat rachna hai jyotsana pardeep ji....gajnabi sa dukh wali pankti to ati uttam.... Badhai

प्रियंका गुप्ता said...

पेड़ काटने का दुष्परिणाम हम सब निरंतर भुगत रहे हैं, फिर भी नहीं चेत रहे | बहुत सार्थक रचना...मेरी हार्दिक बधाई...|