Wednesday, December 24, 2014

पौष की हवा



डॉ सुधा गुप्ता
1
पौष की हवा
कहे मार टहोका-
बता तो ज़रा
अब क्यों दुत्कारती
जेठ में दुलारती ।
-0-

9 comments:

Dr.Bhawna said...

Bahut Khub !

jyotsana pardeep said...

bahut hi sunder srajan....aadarniy sudha ji ko saadar naman ke saath -saath hardik badhai ..

Kamla Nikhurpa said...

क्या बात है .. बिलकुल अलग अंदाज में .. तरोताजा कर गई 'पौष की हवा ' सुधादीदी आपकी कलम ने हमेशा की तरह कमाल कर दिया |

Shashi Padha said...

वाह!स्मृतियों को तरोताज़ा कर गी यह पोष की हवा | धन्यवाद आपका |

सादर,

शशि पाधा

Anita Lalit (अनिता ललित ) said...

वाह! कितनी सहज व सुन्दर अभिव्यक्ति !
सुधा दीदी जी एवं उनकी लेखनी को नमन।

~सादर
अनिता ललित

sushila said...

पौष की हवा का मनभावन मानवीकरण। अति सुंदर !
सुधा दी को साधुवाद

Dr Anita Kapoor said...

बहुत ही सुंदर लिखा है...सादर

ज्योति-कलश said...

वाह ! खूब कहा !
सादर नमन दीदी !

प्रियंका गुप्ता said...

वाह ! बहुत सुन्दर...हार्दिक बधाई...|