Wednesday, March 12, 2014

मेरी मनोकामना

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
1
साँस -साँस हो
सुरभित चन्दन
मेरा वंदन
भाव- सुमन बन
खिल उठे जीवन ।
2
ताप आए
कभी पास तुम्हारे
आँगन द्वारे,
मेरी यह प्रार्थना
यही मनोकामना

-0-

12 comments:

sushila said...

ह्रदय के पावन भाव बहुत ही सुंदरता से अभिव्यक्त किए हैं आपने।
बधाई भैया !

Krishna said...

बहुत उमदा सोच....बहुत-२ बधाई !
एक ताँका मेरी ओर से :

नेक भावना
देती बड़ी सांत्वना
आप से जन
चाहें सर्व कल्याण
होवे सुखी जहान ।

प्रियंका गुप्ता said...

आपकी ये मनोकामना बहुत छू गयी मन को...आपके लिए भी ऐसी ही भावना है हम सब के मन में...|
हार्दिक बधाई...|

Rachana said...

bhaiya sachche hrdy vala vuyati ki itni sunder kamna dusron ke liye kar sakta hai
saader
rachana

Shashi said...

आदरणीय रामेश्वर जी, सत्यम, शिवम् , सुन्दरम के अनुपम भावों को चरितार्थ करती आपकी मनोकामना बहुत मन भायी | धन्यवाद आपका |

शशि पाधा

Anupama Tripathi said...

बहुत सुंदर भाव ...!!
सुंदर रचना ...!!

ज्योति-कलश said...

भाव विह्वल कर देने वाली है यह मनोकामना भैया !
यह भाव सुगंध हमारे लिए ओजोन पर्त हो गई है ...ईश्वर इसे सदा सर्वदा सुरक्षित बनाए रखे ,यही प्रार्थना है |

सादर
ज्योत्स्ना शर्मा

Anita Lalit (अनिता ललित ) said...

अत्यंत सुन्दर ताँका , बेहद पावन भाव !
भैया जी , धन्य हुआ यह जीवन आप जैसा भाई पा कर। आपके स्नेह के सामने नतमस्तक हैं हम ! ईश्वर से यही प्रार्थना है कि वह आपका जीवन सुख, समृद्धि अच्छे स्वास्थ्य एवं शान्ति से परिपूर्ण रक्खे।

~सादर
अनिता ललित

Pushpa Mehra said...

tap na aye,kabhi pas tumhare, angan dvare.....panktiyan apake pavan man ki mahanta ko darshati hain.eshwar se apake swasth va sukhi jeevan ki kamana ke sath apako dhanyavad .
pushpa mehra.

सीमा स्‍मृति said...

सुन्‍दर सोच वाला ही इतना सुन्‍दर लिख सकता है। जो लोगों को एक दिशा देता है उसकी मनोकामना भी हर दृष्टि से सुन्‍दर हीे होगी। ईश्‍वर आप को स्‍वास्‍थ्‍य रखे।

सीमा स्‍मृति said...

सुन्‍दर सोच वाला ही इतना सुन्‍दर लिख सकता है। जो लोगों को एक दिशा देता है उसकी मनोकामना भी हर दृष्टि से सुन्‍दर हीे होगी। ईश्‍वर आप को स्‍वास्‍थ्‍य रखे।

jyotsana pardeep said...

paavan man mein hi pavitr bhavo ka sanchaar hota hai ..apka snehil ashirvaad hamare saath hamesha rrahe ...