Monday, October 28, 2013

हमारी उम्र

सुभाष लखेड़ा   

हमारी उम्र
रहे हमारे पास
उनकी उम्र
रहे उनके पास
दीर्घजीवी हों
सदैव स्वस्थ रहें
वह और मैं
हाथों में रहें हाथ 
जीवन भर 
अपनी उम्र न दें  
वे कभी मुझे  
उम्र किसी से लेना  

बेवकूफी है
वे  मरें, हम जियें
आखिर किसलिए।
-0-

4 comments:

Manju Gupta said...

स्वस्थ रहो भाई , सुंदर चोका

बधाई

Manju Mishra said...

उम्र किसी से लेना

बेवकूफी है
वे मरें, हम जियें
आखिर किसलिए .... subhash ji ye baat to aapne bahuch achchhi kahi ...

Manju Mishra

ज्योति-कलश said...

बहुत सुन्दर भावनाओं से भरा चोका है ......बधाई आपको !

KAHI UNKAHI said...

भावपूर्ण चोका के लिए बहुत बधाई...|

प्रियंका