Wednesday, September 25, 2013

दुआओं का असर

सुभाष लखेड़ा 
1  
अदब घटा  
बड़ों का दुनिया में 
सिर्फ तब से  
दुःख दर्द न बाँटे  
अपनों के जब से। 
2
कम हो गया 
दुआओं का असर 
दिल से नहीं 
निकलती लब से  
ये दुआएँ जब से। 


-0-

2 comments:

Krishna said...

दोनों ताँका बहुत बढ़िया बहुत खूब कहा आपने सुभाष जी.... बधाई!

Pushpa Mehra said...

adab ghata badon ka duniya se sirf tab se dukkh dard na banta
vaiapano ka tab se. lakhera ji apaka no.ek tanka marm sparshi hai. vaise apake dono tankon kiabhivyakti bahut hi sunder hai.
badhai.
pushpa mehra.