Friday, August 30, 2013

कुछ स्नेहमय क्षण-2





रोहिणी दिल्ली-27 अप्रैल 2012


 प्रगीत कुँअर , भावना कुँअर , ऐश्वर्या कुँअर ( सिडनी ,ऑस्ट्रेलिया) 
काम्बोज परिवार के साथ। 
धूप के खरगोश हाइकु-संग्रह-23 मार्च को प्रकाशित हो चुका था।
-0-
मेरठ ,24 अक्तुबर-2013

 

       


 मंजु मिश्रा ( कैलिफ़ोर्निया), डॉ सुधा गुप्ता जी 

मंजु मिश्रा ( कैलिफ़ोर्निया), डॉ सुधा गुप्ता जी  के परिवार के साथ 
 
-0-


रोहिणी दिल्ली-13 मई -2013 
अनिल कुमार शर्मा , डॉ ज्योत्स्ना शर्मा -काम्बोज परिवार के साथ
अनिल कुमार शर्मा , डॉ ज्योत्स्ना शर्मा और अनन्या शर्मा-
काम्बोज परिवार के साथ

-0-
रोहिणी दिल्ली-29 मार्च -2013
शशि पाधा - काम्बोज परिवार के साथ
शशि पाधा - काम्बोज परिवार के साथ















                                                                                                                                

8 comments:

Subhash Chandra Lakhera said...

ऐसी मीठी यादें जीवन को जो सम्पूर्णता प्रदान करती हैं, वह अनमोल है। स्नेह धागों को मजबूती देती हैं। आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें, सदैव बनी रहें अपनत्व की ये भावनाएं !- सुभाष लखेड़ा

ज्योति-कलश said...

अति सुन्दर स्मृतियाँ ...ह्रदय से आभार त्रिवेणी ...:)

सादर !

Anita (अनिता) said...

वाह! सच में ये आत्मीय क्षण, स्नेही क्षण सहेजने, संजोने योग्य हैं...
अपना हाइकु परिवार ऐसे फलता-फूलता रहे... ईश्वर से यही दुआ है!:-)

~सादर!!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आत्मीय क्षणों को साझा करने का शुक्रिया ।

Pushpa Mehra said...

jeevan -path par ek hi lakshya ko sath lekar snigdh-
atmiiya chanon ko sare haiku parivar ke sath sajha karnaa avismarniiya hai. chote kanhaiya ji to parivar ki
puurii bhagidari kar rahe hain.isi tarah sneh- vrashti ki
kamana karati hun.
pushpa mehra.

Pushpa Mehra said...

haiku parivar ke kuch atmiiya jano ko dekh kar acchaa laga. hamesha ke liye ham sab ki yaad me.n darj ho gaye.



pushpa mehra

Dr.Bhawna said...

मधुर स्मृतियाँ...

KAHI UNKAHI said...

इन चित्रों को देख कर बहुत खुशी होती है...| आगे भी ऐसे ही खुशनुमा यादगार पलों को साँझा करते रहिए...|

प्रियंका