Friday, August 30, 2013

जीवन

सुभाष लखेड़ा

जीवन क्या है
पुराना सवाल है  
कई जवाब 
देते रहे हैं लोग 
फलस्वरूप 
पनपे कई मत
मिला न सत 
हम वहीं खड़े हैं 
लगता यही 
इसमें न उलझें 
जीवन जिएँ
करें हमेशा हम 
परोपकार
यही बड़ा पुण्य है 
नहीं दें पीड़ा 
वह  बड़ा पाप है 
महापुरुष 
सभी धार्मिक ग्रन्थ  
कहते यही
सेवा सच्चा  धर्म है 
जीवन का मर्म है।  

-0-

कुछ स्नेहमय क्षण-2





रोहिणी दिल्ली-27 अप्रैल 2012


 प्रगीत कुँअर , भावना कुँअर , ऐश्वर्या कुँअर ( सिडनी ,ऑस्ट्रेलिया) 
काम्बोज परिवार के साथ। 
धूप के खरगोश हाइकु-संग्रह-23 मार्च को प्रकाशित हो चुका था।
-0-
मेरठ ,24 अक्तुबर-2013

 

       


 मंजु मिश्रा ( कैलिफ़ोर्निया), डॉ सुधा गुप्ता जी 

मंजु मिश्रा ( कैलिफ़ोर्निया), डॉ सुधा गुप्ता जी  के परिवार के साथ 
 
-0-


रोहिणी दिल्ली-13 मई -2013 
अनिल कुमार शर्मा , डॉ ज्योत्स्ना शर्मा -काम्बोज परिवार के साथ
अनिल कुमार शर्मा , डॉ ज्योत्स्ना शर्मा और अनन्या शर्मा-
काम्बोज परिवार के साथ

-0-
रोहिणी दिल्ली-29 मार्च -2013
शशि पाधा - काम्बोज परिवार के साथ
शशि पाधा - काम्बोज परिवार के साथ