Wednesday, July 17, 2013

सब वही है

ताँका
सतीशराज पुष्करणा
1
सावन माह
आया समय पर
हुआ क्या लाभ ?
अगर झूमकर
पानी नहीं बरसा।
2
सागर क्या है
वो क्या जान पाएगा,
आज तक जो
बाहर नहीं आया 
आँगन के कुएँ से ।
3
उन्हें कोई भी
पकड़ लेगा कैसे
वो तो आज भी
काफ़ी लम्बे -चौड़े हैं
क़ानून  के हाथों  से ।
4
बादल आया
बूँदों को बरसाने
किसने फोड़ा
नाराज़ बादल को
बहा दिए शहर ।
5
बूढ़े चाँद की
नीयत ज़रा देखो-
देखा करता
उनके चेहरे को
बादलों की ओट से ।
6
सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई ।
-0-


9 comments:

Subhash Chandra Lakhera said...

" सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई । "
- अति सुन्दर !
डॉ पुष्करणा जी के सभी तांका अति सुन्दर, अनुभवों से लबालब।
मैं भी एक अनुभव बाँट रहा हूँ :
" माँ क्या गई ?
पापा तो बिखर गए
आँखें निस्तेज
खोये खोये से रहें
कभी कुछ न कहें। "

Anita (अनिता) said...

बहुत सुंदर बिम्ब ...! भावपूर्ण, अर्थपूर्ण ताँका !

~सादर!!!

युग-चेतना said...

सभी रचनाएं ह्रदयस्पर्शी हैं पर ये तो नैन छलका गई -
सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई ।

बधाई |

Krishna said...

सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई ।
बेहतरीन ताँका....डा० सतीशराज पुष्करणा जी को हार्दिक बधाई!

KAHI UNKAHI said...

सुन्दर, भावपूर्ण तांका के लिए बधाई...|
प्रियंका

Rachana said...

सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई ।
bahut khoob bhav aur sach bhi
aapka ek ek tanka bahut hi sunder hai
bahut bahut badhai
rachana

ज्योति-कलश said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई ।....मर्मस्पर्शी !!

सादर
ज्योत्स्ना शर्मा

डॉ. जेन्नी शबनम said...

ये बेहतरीन...

सब वही है
पर क्या कहें हम
पापा के जाते
सूर्य -सी रौशन माँ
अब रात हो गई ।

सभी ताँका बहुत भावपूर्ण, सतीशराज जी को हार्दिक बधाई.

Dr.Anita Kapoor said...

बूढ़े चाँद की
नीयत ज़रा देखो-
देखा करता
उनके चेहरे को
बादलों की ओट से ।
सभी ताँका बहुत भावपूर्ण, सतीशराज जी को हार्दिक बधाई.