Saturday, January 26, 2013

पाया जो तुम्हें


कृष्णा वर्मा
1
पाया जो तुम्हें
उमंग बनी मेरी
खुशियों की बहार
गोद में लिया
ज्यों बेटे का शैशव
पुन: मिली सौग़ात।
2
देखा जो तुझे
मन गुदगुदाया
पाया बड़ा आनन्द
कसके तूने
अँगुली यूँ पकड़ी
ज्यों जन्मों का सम्बन्ध।
3
हर लेती है
तेरी ये मुसकान
मेरी सब पीड़ाएँ,
कैसा बंधन
दीर्घायु की  पिपासा
सहसा बढ़ी जाए
4
भोली -सी तेरी
मीठी प्यारी बातों में
कैसा  है भरा जादू !
अनेकों ग़म
तेरी हँसी दे मेट
तू अनुपम भेंट।
5
तू नटखट
शैतान बड़ा पर,
मेरी आँख का तारा,
निज बेटे से
बढ़कर लगे तू
रिश्ता है कैसा न्यारा।
6
ना हरि सेवा
नित नेम प्रभु का
कैसे मोह में पड़ी !
चित्त सुझाए
इसकी सेवा में ही
हरि भी मिल जाए ।
-0-


1 comment:

KAHI UNKAHI said...

ममता से भरे सुन्दर सेदोका...बधाई...|
प्रियंका