Saturday, November 3, 2012

कारगिल (चोका)



करूँ सलाम 
जो शहीद हुए हैं 
कारगिल में 
थी हिम्मत की जीत 
दुश्मन पर 
था बैरी को भगाया 

दम दिखाया
 
रख जान हथेली 
लिए तिरंगा 
कोलोलिंग पहाड़ी 
जा फ़हराया 
जाम- ए-  शहादत 
पीते जवान 
वतन की खातिर 
चैन की नींद 
देशवासी हैं सोते 
सरहदों पे 
रक्षा वीर जवान 
जब तक करते !

वरिन्दरजीत सिंह बराड़ 

No comments: