Sunday, November 11, 2012

दीप एक प्यार का


1-डॉ सरस्वती माथुर
1
देहरी जले
दीप एक प्यार का
नेह मनुहार का
पाहुन आ
साँझ घर हमारे
वक्त है शृंगार का .

2-मंजु गुप्ता
1
करें उजाला 
जलाएँ क्रांतिदीप 
प्रकाश हो दिलों में 
प्रेम - साँच को 
अपनाएँगे जब
निखरेगा जीवन ।
-0-

3 comments:

Anonymous said...

"देहरी जले

दीप एक प्यार का
नेह मनुहार का ....."बहुत ही सुंदर सेदोका दीप पर्व पर ... सरस्वती माथुर जी और मंजू जी दोनों लेखिकाओं को बधाई!
स्वाति

शशि पाधा said...


"नेह तथा मनुहार के दीप " बहुत सुन्दर बिम्ब हैं सरस्वती जी | बधाई |
क्रान्तिदीप से जीवन निखरेगा --सुन्दर सकारात्मक सोच | बधाई मंजू जी |

Anonymous said...

सुंदर सेदोका दीप पर्व पर.दोनों लेखिकाओं को बधाई! ...

Rekha