Monday, October 1, 2012

प्यारी चिरैया


1-रेनु चन्द्रा माथुर
1            
प्यारी चिरैया
तू तिनका- तिनका
नीड़ बनाती
जतन से जोड़ती
तू काहे ना थकती?
2
नीले नभ में
 श्वेत कपोत सदा
उड़ते जाएँ
शान्ति संदेश लिये
जन जन फैलाएँ
3
नारी तुम भी
गीली मिट्टी सी हो ना !
जिस रूप में
चाहो ल जाती हो
फ़ भी न करती।
-0-
2- डॉ सरस्वती माथुर
1
उड़ा मन भी
पाखी- सा आकाश में
स्वप्न- से तारे
टिमटिमाते देख
लौटा नहीं नीड में  
2
संध्या नीड में
लौटे थके परिंदे
तेज हवाएं
जाने कहाँ ले गईं
कोई न जान सका  
3
रात सितार
बजाता रहा चाँद
चाँदनी बैठी
उनींदी सुनती सी
ख्वाब बुनती रही  
4
खिले सुमन
तितली के स्पर्श से
रंगीन होके
पंखुड़ियाँ फैलाते
समर्पित हो जाते  
-0-

No comments: