Tuesday, January 24, 2012

रूठी किस्मत


डॉ अमिता कौंडल

रूठी किस्मत
तुझसे ऐ नादान
क्या सोचती
न जाने दे अबके
चले जो गए
तो पछताएगी तू
नैनों में आँसू
ले द्वार पर बैठी
हर शाम को
दीप जलाएगी तू
और सुबह
तक दीप संग तू
बुझ जाएगी
विरह की पीड़ा में
औ विरहन
दिन रैन अश्रु ही
बहाएगी तू
उठ रोक ले उन्हें
जाने न देना अब
-0-

No comments: