Tuesday, November 15, 2011

नेह तेरा है


मुमताज़ टी. एच.खान
1
रिश्ते तो आज
बन गये हैं ख्वा
बन्द आँखों में
होते हैं वो अपने
खोलने पे सपने
चित्रांकन:अक्षय अमेरिया
2
छुआ था मन
किसी ने सपने में
खुली जो आँख
रह गयी वो छाप
नेह भरे स्पर्श की
3
नेह तेरा है-
नील गगन जैसा,
नहीं है छोर
न तोड़ सके कोई
बाँधी धरा से डोर
चित्रांकन:अक्षय अमेरिया
4
भावुक मन
रोके नहीं रुकता
तोड़ कर वो
बन्धनों को भी सारे
बहने ही लगता
5
मिला हमको
सा अपनापन
दुआ रब से-
रहे साथ हमारे
हर एक जनम
6
कड़ी धूप में
खड़े जब अकेले
शीतल छाया
पड़ी जो गगन से
देखा- थी माँ की छाया
चित्रांकन:अक्षय अमेरिया
7
नेह -पोटली
मिली जब भाग्य से
  खुलने पर
बिखरी जीवन में
समेटे न सिमटे
8
बन्धन खुला
रिश्तों का है जब से
टूटा है मन
बिखर गया अब
जैसे टूटा दर्पण
-0-

1 comment:

satishrajpushkarana said...

मुमताज जी आपके सभी तांका बहुत संवेदनशीलता लिये हुए हैं । पर ये दोनों तो माधुर्य से भरे है-7
नेह -पोटली
मिली जब भाग्य से
खुलने पर
बिखरी जीवन में
समेटे न सिमटे
8
बन्धन खुला
रिश्तों का है जब से
टूटा है मन
बिखर गया अब
जैसे टूटा दर्पण
-0-