Tuesday, November 29, 2011

आस लगाए बैठे


आस लगाए बैठे(ताँका)
प्रगीत कुँअर
1
बूँद बन के
अंखियों की झील से
आँसू छलके
बहा कर ले गये
ख़्वाब थे जो कल के
2
तेज रफ़्तार
ज़िंदगानी की रेल
बिना रुके ही
पटरियों पे दौड़े
मंजिल पीछे छोड़े
3
भरे थे रंग
ज़िंदगी के चित्र में
खुशी के संग
बही आँसू की धार
हुए सब बेरंग
4
शिकायत है
खुद से बस यही
जीवन भर
बात जो दिल बोला
बस वही क्यों सुनी ?
5
कहे बिना ही
हो जाती कुछ बातें
खुद ही बयाँ
चाहे हो कितने भी
फ़ासले दरमियां
6
देखे सपने
उड़ते परिंदों के
जागे जो हम
पाया फिर खुद को
रेंगते जमीन पे
7
मेहनत का
मिलना था जो फल
आज़ न मिला
आस लगाए बैठे
शायद मिले कल
8
हर तरफ़
फिरते हैं कितने
रुखे चेहरे
दिलो-दिमाग तक
देते जख़्म गहरे
9
अंदाज़ा न था
डूबने से पहले
गहराई का
तैर के ऊपर ही
चलता कैसे पता?
10
बेड़ियाँ डाले
रिश्तों की पैरों में
पड़े हैं छाले
प्यार का मरहम
करेगा दर्द कम
-0-

रिश्ते


रिश्ते (ताँका)
मंजु मिश्रा
1
ज़िंदगी यूँ तो
ख़ूबसूरत बहुत
पर जाने क्यूँ
कभी अचानक ये
हो जाती है उदास 
 2
काश ! कोई तो
पढ़ पाता दिल की
बंद किताब,
देख पाती  दुनिया
सपनों का संसार
 3
जानता फ़िर
ये आकाश  भी और
धरती भी, कि  
वो ही नहीं, होते हैं  
सपने भी अनंत
 4
विस्तार हक़
है हर कल्पना का
जो उपजती
और बुनती इक
निराला- सा संसार
5
रिश्ते नहीं हैं
कपड़े , जिन्हें जब
चाहें बदलें
चाहें उतार फेंकें
अपने हिसाब से
6
रिश्ते ,रिश्ते हैं
इन्हें जियो मन से
बाँधो मन से
मानो मन से और
निभाओ भी मन से
7
जो रिश्तों में है,
वो धन -दौलत में,
अधिकार के
दंभ में कहाँ ?रिश्ते
सब पर भारी हैं
8
रिश्ते जोड़ के
पाओगे जीवन में
सारी खुशियाँ
वरना रहो यूँही
खाली के खाली हाथ !!
9
ये भी सच है
रिश्ते जब आदत
बन जाते हैं
बहुत सताते हैं
जी भर रुलाते हैं
10
मुंडेर पर
अटकी हुई धूप
जब उतरी,
जाते-जाते ले गयी
उजालों का भरम ।
-0-

Thursday, November 24, 2011

जीवन है सागर


डॉoजेन्नी शबनम
1
तू हरजाई
की मुझसे ढिठाई
ओ मोरे कान्हा,
गोपियों संग रास
मुझे माना पराई
2
रास रचाया
सबको भरमाया
नन्हा मोहन,
देकर गीता-ज्ञान
किया जग-कल्याण
3
तेरी जोगन
तुझ में ही समाई
थी वो बावरी,
सह के सब पीर
बनी मीरा दीवानी
4
हूँ पुजारिन
नाथ सिर्फ तुम्हारी
क्यों बिसराया
सुध न ली हमारी
क्यों समझा पराया?
5
ओ रे विधाता
तू क्यों न समझता?
जग की पीर,
आस जब से टूटी
सब हुए अधीर
6
ग़र तू थामे
जो मेरी पतवार,
सागर हारे
भव -सागर पार
पहुँचूँ तेरे पास
7
हे मेरे नाथ
कुछ करो निदान
हो जाऊँ पार
जीवन है सागर
है न खेवनहार
8
तू साथ नहीं
डगर अँधियारा
अब मैं हारी,
तू है पालनहारा
फैला दे उजियारा
9
मैं हूँ अकेली
साथ देना ईश्वर
दुर्गम पथ,
अन्तहीन डगर
चल -चल के हारी
10
भाग्य विधाता !
तू निर्माता, जग का
पालनहारा,
हे ईश्वर सुन ले
इन भक्तों की व्यथा
-0-

ढूँढती समाधान


ढूँढती समाधान
डॉ०रमा  द्विवेदी
         1
अजब भाषा
बाँच  पाए को
झीनी चुनरी
देख सके न आँख 
रहें  प्रेम में  खो
        2
पानी-ही पानी
प्यासा समंदर क्यों
ढूँढ़े नदी को
नदी ढूँढ़ती उसे
अजीब रिश्ता यह ?
        3
चुप्पी जो खिंची
फ़ासला बढ़ गया
बेवज़ह ही
रिश्ते को डस गया
ग्रहण लग  गया
        4
नग्न शज़र
रोता है  जार-जार
 तलाशता है
हरित परिधान
कब होगा विहान ?
 5
फिजाएँ गाएँ
हवा गुनगुनाए
संध्या की बेला
पर्वत हो अकेला
बंजारा गाता जाए ।
6
हरे-भरे जो
कल पीले होकर
मिट्टी में मिल
 ठूँठ  रह  जाएँगे 
 नवांकुर आएँगे ।
7
बूँदें बरसीं
टप-टप टपकीं
अखियाँ रोईं
सुधियाँ उड़ आईं
हर्षित-मन भाईं
 8
रिश्ते में धोखा
ताउम्र वनवास
मन का त्रास
दिल की चाहत का
ढूँढती समाधान
9
सात फेरे भी
रिश्ते बचा न पाएँ
व्यर्थ वचन-
प्रणय -अनुबंध
झूठे  सब सम्बन्ध
10
खो गया सब
सभ्यता की दौड़ में
सुख-सुकून
दौड़ रहे फिर भी
चौधियाई आँखों से।
-0-

Sunday, November 20, 2011

स्वर्ग बने ये न्यारा


डॉ0 मिथिलेशकुमारी मिश्र
1
नारी नहीं है
कोई खेल खिलौना
वो प्रतिष्ठा है
घर-परिवार की
सकल समाज की
2
किसी को कोई
सुधारेगा क्या भला
खुद को गर
सुधारे हर कोई
स्वर्ग बने ये न्यारा
3
सुख या दु:ख
बाहर से न आते
मन की बातें
जैसे भी समझ लो
महसूस कर लो
4
खाली जो बैठें
प्राय: बुरा ही सोचें
व्यस्त जो रहे
उसे समय कहाँ
जो बैठ बुरा सोचे
5
माँ तो होती वो
विकल्प न जिसका,
समझें न जो
उसे जीते जी बच्चे
बाद में पछताते
-0-

भटके तीर्थ सारे


राजेन्द्र मोहन त्रिवेदी 'बन्धु'
1
स्वार्थ के लिए
पेड़ों को काट डाला
जैसे दुश्मन
दूषित हुई हवा
बीमार हुए हम
2
खिला कमल
कीचड़ में रहके
सौन्दर्य पाया
संघर्ष द्वारा आप
खुद को सँवारिए
3
मन्दिर खोजे
भटके तीर्थ सारे
प्रभु तो नहीं
महन्त मिले सब
माया की चाह लिये
4
रात में तारे
जड़े काली साड़ी में
श्वेत सितारे
चन्दा लगे हर्षित
जैसे होगी सगाई
5
आम बौराए
पीली सरसों देख
भौंरा मुस्काए
धरा ने ओढ़ लिया
स्वर्णिम पीत पट
6
कैसा ज़माना !
बिखर गया घर
बेटा विदेशी
बूढ़े माँ -बाप जिएँ
उम्मीद के सहारे।
7
बाढ़ जो आई
मिटा दिए निशान
कभी गाँव थे
बन गए भिखारी
थे कभी धनवान
-0-

Tuesday, November 15, 2011

फिर आएँ बहारें


 प्रो. दविन्द्र कौर सिद्धू 
1
झरते पत्ते 
टूटा जो आशियाना 
छोड़ न आशा 
फिर आएँ बहारें
घोंसला फिर बने 
2
फसल कटी 
कर्ज उतारा गया 
हाथ हैं खाली
गोरी गूँथ रही है 
दुःख भूख का आटा
3
पीपल -पींग
चढ़ी है आसमान 
तीजो का चाव 
सावन हरषाया 
ओ माही लेने तो आ 
4
घोड़ी -सिंगार
झट चला माहिया
गोरी के चाव 
सावन की बूँदों ने 
उतारा अनुताप 
5 .
ज़हर बना 
मर-मर बहती 
नदी पंजाबी 
मीठा पानी यहाँ का 
ज्यों  गुज़री कहानी 
6
सूनी मूरत 
चुपके से दरिया 
भीतर बहे
देख यूँ बहकर 
ये तूफ़ान से  मिले 
चित्रांकन:अक्षय अमेरिया
7
माँ -बाप ‘सीस’
दो लफ़्ज़ हैं  बीमार 
बाप लाचार
बैठा वृद्धाश्रम में-
बेटे का इंतज़ार
8 .
शब्द ढूँढते
परवाज़ गीत की 
नभ के पार
कोयल कूक रही 
साज़ भी व गान भी 
9
मीठी कोयल
कूक है लाजवाब 
सँभल जा तू 
वो गीत लिखा नहीं
जो तेरी परवाज़
10
चल दी गाड़ी
स्टेशन हुआ सूना
उदासी छाई
पीछे छोड़ आई है 
आँसू  भरी अँखियाँ 
11
चाँदी -रंग -सा 
चाँद का एक हर्फ़ 
काव्य पिरोया
रात भी  शरमाई 
यूँ  सितारों के संग 
-0-